कैसे नववर्ष मनाऊॅ

दादाजी की कलम से✌🏼

द्विजदेव की कलम से

कैसे नववर्ष मनाऊॅ?

मैं किसको व्यथा सुनाऊॅ?

खामोश क्षितिज असहाय,

खामोश हैं सभी दिशायें,

मदिरा का सिन्धु बहाऊॅ या

निर्मल जल जन को पिलाऊॅ?

कैसे नववर्ष मनाऊॅ?

मैं किसको व्यथा सुनाऊॅ?

वसुधा यों बेहाल बनी है,

सदाचार कंगाल बनी है,

आदमी आदमखोर हो गये,

चिंता की यह बात बनी है।

दिलजले को गले लगाऊॅ या

नफरत से हाथ मिलाऊॅ?

कैसे नववर्ष मनाऊॅ?

मैं किसको व्यथा सुनाऊॅ?

हर चौराहें मदिरा पहुॅची,

पग-पग खड़े लफंगा,

भयाक्रांत हैं हर बालाएॅ,

अस्मत का क्या खेल है नंगा!

तरस खा रही हर महिलाएॅ,

किससे दिल का दर्द सुनाएॅ?

एक ओर खंदक एक ओर खाई,

चोर-चोर मौसेरा भाई,

माॅ-बेटी यह सोच निकलती,

दामन कैसे बचाऊॅ?

कैसे नववर्ष मनाऊॅ?

मैं किसको व्यथा सुनाऊॅ?

पूत सपूत कपूत हुये,

पत्नी के पीछे भूत हुये।

जब दुर्दिन आते हैं,

अपने, बेगाने बन जाते हैं,

विपरीत हवा जीवन-पथ में

विकराल रूप दिखलाते हैं।

दुनिया की बदली आव-हवा

नित नई बीमारी, नई…

View original post 36 more words

Advertisements

One thought on “कैसे नववर्ष मनाऊॅ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s